Greater Glory Of God

Our Lady of Sorrows in Hindi

दुःखों की माँ

माँ मरियम को दुःखों की माँ – Our Lady of Sorrows / Mother of Sorrows कहा जाता है। क्योंकि प्रभु येसु और दुःख, प्रभु येसु और क्रूस, ये दोनों अलग नहीं किये जा सकते हैं। यह तो जैसे शरीर और साँस के समान हैं।

माँ मरियम छाया की तरह अपने पुत्र के साथ चलीं। पिता ईश्वर ने चाहा कि उनका पुत्र दुःख सह कर हमें मुक्ति दिलाये। इस योजना के तहत माँ मरियम का भी दुःख अलिखित एक सच्चाई है।
माँ मरियम एक दर्शक के रूप में नहीं बल्कि अपने पुत्र के जीवन में पूर्ण रूप से सहभागी हो कर उनके सुख-दुःख को अपनाते हुए जीती रहीं।
जब प्रभु येसु क्रूस पर मर रहे थे, क्रूस के नीचे खड़ी उनकी माँ मरियम भी मर रही थी।
माँ मरियम का जीवन पूर्ण रूप से दुःखों से भरा हुआ था जैसे उनके पुत्र का जीवन।

लेकिन 7 घटनाओं को इन सबसे विशेष माना जाता है। जैसे :-

  1. सिमेयोन की भविष्यवाणी। (सन्त लूकस 2:34-35)
  2. मिस्र में पलायन । (सन्त मत्ती 2:13)
  3. येरूसालेम मंदिर में बालक येसु का खो जाना। (सन्त लूकस 2:43-45)
  4. कलवारी के राह पर प्रभु येसु से मिलन।
  5. कलवारी पर्वत पर प्रभु येसु का क्रूस पर ठोका जाना। (सन्त योहन 19:25)
  6. एक भाले से प्रभु के बगल को मारना और उनके लाश को माँ मरियम के गोदी में रखना। (सन्त मत्ती 27:57-59)
  7. प्रभु येसु का दफन। (सन्त योहन 19:40-42)

इस मह्त्वपूर्ण रहस्य को समझने पूरे वीडियो देखिये।