Greater Glory Of God

प्रेरित-चरित अध्याय 14

प्रेरित-चरित – अध्याय 14

इकोनियुम में धर्मप्रचार

1) इकोनियुम में भी उन्होंने सभागृह में प्रवेश किया और ऐसा भाषण दिया कि यहूदी तथा यूनानी, दोनों बड़ी संख्या में विश्वासी बन गये।

2) किंतु जिन यहूदियों ने विश्वास करना अस्वीकार किया था, उन्होंने गैर-यहूदियों को उभाड़ा और उनके मन में भाइयों के प्रति द्वेष भर दिया।

3) पौलुस तथा बरनाबस कुछ समय तक वहाँ रहे और प्रभु पर भरोसा रख कर निर्भीकता पूर्वक प्रचार करते रहे। प्रभु भी उनके हाथों द्वारा चिन्ह तथा चमत्कार दिखा कर अपने अनुग्रह का संदेश प्रमाणित करते थे।

4) इसका परिणाम यह हुआ कि नगर की जनता में फूट पड़ गयी। कुछ लोगों ने यहूदियों का और कुछ लोगों ने प्रेरितों का पक्ष लिया।

5) तब नगर के शासकों के सहयोग से गैर-यहूदियों तथा यहूदियों ने प्रेरितों पर अत्याचार तथा पथराव के लिए आंदोलन आरंभ किया।

6) प्रेरितों को इसका पता चला और वे लुकाओनिया के लुस्त्रा तथा देरबे नामक नगरों और उनके आसपास के प्रदेश की ओर भाग निकले

7) और वहाँ सुसमाचार का प्रचार करते रहें।

लुस्त्रा के लँगड़े को स्वास्थ्यलाभ

8) लुस्त्रा में एक ऐसा व्यक्ति बैठा हुआ था, जिसके पैरों में शक्ति नहीं थी। वह जन्म से ही लंगड़ा था और कभी चल-फिर नहीं सका था।

9) वह पौलुस का प्रवचन सुन ही रहा था कि पौलुस ने उस पर दृष्टि गड़ायी और उस में स्वस्थ हो जाने योग्य विश्वास देख कर

10) ऊँचे स्वर में कहा, “उठो और अपने पैरों पर खड़े हो जाओ”। वह उछल पड़ा और चलने-फिरने लगा।

11) जब लोगों ने देखा कि पौलुस ने क्या किया हैं, तो वे लुकाओनियाई भाषा में बोल उठे, “देवता मनुष्यों का रूप धारण कर हमारे पास उतरे हैं”।

12) उन्होंने बरनाबस का नाम ज्यूस रखा और पौलुस का हेरमेस, क्योंकि वह प्रमुख वक्ता था।

13) नगर के बाहर ज्यूस का मंदिर था। वहाँ का पुजारी माला पहने सांड़ों के साथ फाटक के पास आ पहुँचा और वह जनता के साथ प्रेरितों के आदर में बलि चढ़ाना चाहता था।

14) जब बरनाबस और पौलुस ने यह सुना, तो वे अपने वस्त्र फाड़ कर यह पुकारते हुए भीड़ में कूद पड़े,

15) भाइयो! आप यह क्या कर रहे हैं? हम भी तो आप लोगों के समान सुख-दुःख भोगने वाले मनुष्य हैं। हम यह शुभ संदेश देने आये हैं कि इस निःसार देवताओं को छोड़ कर आप लोगों को उस जीवंत ईश्वर की ओर अभिमुख हो जाना चाहिए, जिसने आकाश, पृथ्वी, समुद्र और उन में जो कुछ है, वह सब बनाया।

16) उसने पिछले युगों में सब राष्ट्रों को अपनी-अपनी राह चलने दिया।

17) फिर भी वह अपने वरदानों द्वारा अपने विषय में साक्ष्य देता रहता है – वह आकाश से पानी बरसाता और अच्छी फसलें उगाता है। वह भरूपूर अन्न प्रदान कर हमारा मन आनंद से भरता हैं।”

18) इन शब्दों द्वारा उन्होंने भीड़ को कठिनाई से अपने आदर में बलि चढ़ाने से रोका।

प्रथम प्रचार-यात्रा की समाप्ति

19) इसके बाद कुछ यहूदियों ने अन्ताखिया तथा इकोनियुम से आ कर लोगों को अपने पक्ष में मिला लिया। वे पौलुस को पत्थरों से मार कर और मरा समझ कर नगर के बाहर घसीट ले गये;

20) किन्तु जब शिष्य पौलुस के चारों ओर एकत्र हो गये, तो वह उठ खड़ा हुआ और नगर लौट आया। दूसरे दिन वह बरनाबस के साथ देरबे चल दिया।

21) उन्होंने उस नगर में सुसमाचार का प्रचार किया और बहुत शिष्य बनाये। इसके बाद वे लुस्त्रा और इकोनियुम हो कर अन्ताखिया लौटे।

22) वे शिष्यों को ढारस बँधाते और यह कहते हुए विश्वास में दृढ़ रहने के लिए अनुरोध करते कि हमें बहुत से कष्ट सह कर ईश्वर के राज्य में प्रवेश करना है।

23) उन्होंने हर एक कलीसिया में अध्यक्षों को नियुक्त किया और प्रार्थना तथा उपवास करने के बाद उन लोगों को प्रभु के हाथों सौंप दिया, जिस में वे लोग विश्वास कर चुके थे।

24) वे पिसिदिया पार कर पम्फुलिया पहुँचे

25) और पेरगे में सुसमाचार का प्रचार करने के बाद अत्तालिया आये।

26) वहाँ से वे नाव पर सवार हो कर अन्ताखिया चल दिये, जहाँ से वे चले गये थे और जहाँ लोगों ने उस कार्य के लिए ईश्वर की कृपा माँगी थी, जिसे उन्होंने अब पूरा किया था।

27) वहाँ पहुँचकर और कलसिया की सभा बुला कर वे बताते रहे कि ईश्वर ने उनके द्वारा क्या-क्या किया और कैसे गै़र-यहूदियों के लिए विश्वास का द्वार खोला।

28) वे बहुत समय तक वहाँ शिष्यों के साथ रहे।

The Content is used with permission from www.jayesu.com