Greater Glory Of God

योहन अध्याय 14

सन्त योहन का सुसमाचार- अध्याय 14

योहन अध्याय 14 की व्याख्या
संत योहन रचित सुसमाचार अध्याय 13 से लेकर अध्याय 17 तक प्रभु येसु और 12 प्रेरितों के बीच ही सीमित हैं। यहाँ प्रभु येसु पिता और पुत्र के बीच के सम्बन्ध के बारे में प्रकट करते हैं। और इसी सम्बन्ध के आधार पर प्रभु और उनके शिष्यों के बीच का सम्बन्ध रहेगा।

प्रभु ईसा का अपने शिष्यों से नया सम्बन्ध – प्रभु येसु की पहचान और कार्यों का स्रोत उनका पिता के साथ का सम्बन्ध है। इसलिए प्रभु कहते हैं, “क्या तुम विश्वास नहीं करते कि मैं पिता में हूँ और पिता मुझ में हैं? मैं जो शिक्षा देता हूँ वह मेरी अपनी शिक्षा नहीं है। मुझ में निवास करने वाला पिता मेरे द्वारा अपने महान कार्य संपन्न करता है।” (सन्त योहन 14:10)

ईश्वर की इच्छा यह है कि हमारे और प्रभु येसु के बीच का सम्बन्ध भी ऐसा ही हो। हमारी पहचान और हमारे कार्यों का स्रोत यही सम्बन्ध है।

पवित्र आत्मा की प्रतिज्ञा – पवित्र आत्मा के बारे में प्रभु येसु की शिक्षा अधिकतर संत योहन रचित सुसमाचार में मिलती है। पवित्र आत्मा पिता और पुत्र के बीच के सम्बन्ध और पवित्र त्रित्व के तीसरे व्यक्ति हैं। पवित्र आत्मा ही हम हर एक में रहकर कलीसिया, प्रभु येसु के शरीर का निर्माण कर रहे हैं। यही आत्मा हमें प्रभु की शिक्षा को समझा सकते हैं।

हमारे और प्रभु येसु के बीच के सम्बन्ध का पवित्र आत्मा ही वास्तव में आधार और जीवन हैं।

पवित्र त्रित्व के साथ सम्बन्ध में आगे बढ़ने की कृपा मांगते हुए संत योहन रचित सुसमाचार अध्याय 14 को पढ़िए।

प्रभु ईसा का अपने शिष्यों से नया सम्बन्ध

1) तुम्हारा जी घबराये नहीं। ईश्वर में विश्वास करो और मुझ में भी विश्वास करो!

2) मेरे पिता के यहाँ बहुत से निवास स्थान हैं। यदि ऐसा नहीं होता, तो मैं तुम्हें बता देता क्योंकि मैं तुम्हारे लिये स्थान का प्रबंध करने जाता हूँ।

3) मैं वहाँ जाकर तुम्हारे लिये स्थान का प्रबन्ध करने के बाद फिर आऊँगा और तुम्हें अपने यहाँ ले जाउँगा, जिससे जहाँ मैं हूँ, वहाँ तुम भी रहो।

4) मैं जहाँ जा रहा हूँ, तुम वहाँ का मार्ग जानते हो।

5 थोमस ने उन से कहा, “प्रभु! हम यह भी नहीं जानते कि आप कहाँ जा रहे हैं, तो वहाँ का मार्ग कैसे जान सकते हैं?”

6) ईसा ने उस से कहा, “मार्ग सत्य और जीवन मैं हूँ। मुझ से हो कर गये बिना कोई पिता के पास नहीं आ सकता।”

7) यदि तुम मुझे पहचानते हो, तो मेरे पिता को भी पहचानोगे। अब तो तुम लोगों ने उसे पहचाना भी है और देखा भी है।”

8) फिलिप ने उन से कहा, “प्रभु! हमें पिता के दर्शन कराइये। हमारे लिये इतना ही बहुत है।”

9) ईसा ने कहा, “फिलिप! मैं इतने समय तक तुम लोगों के साथ रहा, फिर भी तुमने मुझे नहीं पहचाना? जिसने मुझे देखा है उसने पिता को भी देखा है। फिर तुम यह क्या कहते हो- हमें पिता के दर्शन कराइये?”

10) क्या तुम विश्वास नहीं करते कि मैं पिता में हूँ और पिता मुझ में हैं? मैं जो शिक्षा देता हूँ वह मेरी अपनी शिक्षा नहीं है। मुझ में निवास करने वाला पिता मेरे द्वारा अपने महान कार्य संपन्न करता है।

11) मेरी इस बात पर विश्वास करो कि मैं पिता में हूँ और पिता मुझ में हैं, नहीं तो उन महान कार्यों के कारण ही इस बात पर विश्वास करो।

12) मैं तुम लोगो से यह कहता हूँ जो मुझ में सिवश्वास करता है, वह स्वयं वे कार्य करेगा, जिन्हें मैं करता हूँ। वह उन से भी महान कार्य करेगा। क्योंकि मैं पिता के पास जा रहा हूँ।

13) तुम मेरा नाम ले कर जो कुछ माँगोगे, मैं तुम्हें वही प्रदान करूँगा, जिससे पुत्र के द्वारा पिता की महिमा प्रकट हो।

14) यदि तुम मेरा नाम लेकर मुझ से कुछ भी माँगोगें, तो मैं तुम्हें वही प्रदान करूँगा।

पवित्र आत्मा की प्रतिज्ञा

15) यदि तुम मुझे प्यार करोगे तो मेरी आज्ञाओं का पालन करोगे।

16) मैं पिता से प्रार्थना करूँगा और वह तुम्हें एक दूसरा सहायक प्रदान करेगा, जो सदा तुम्हारे साथ रहेगा।

17) वह सत्य का आत्मा है जिसे संसार ग्रहण नहीं कर सकता, क्योंकि वह उसे न तो देखता और न पहचानता है। तुम उसे पहचानते हो, क्योंकि वह तुम्हारे साथ रहता और तुम में निवास करता है।

18) मैं तुम लोगो को अनाथ छोडकर नहीं जाऊँगा, मैं तुम्हारे पास आऊँगा।

19 थोडे ही समय बाद संसार मुझे फिर नहीं देखेगा। तुम मुझे देखोगे क्योंकि मैं जीवित रहूँगा और तुम भी जीवित रहोगे।

20) उस दिन तुम जान जाओगे कि मैं पिता में हूँ, तुम मुझ में हो और मैं तुम में।

21) जो मेरी आज्ञायें जानता और उनका पालन करता है, वही मुझे प्यार करता है और जो मुझे प्यार करता है, उसे मेरा पिता प्यार करेगा और उसे मैं भी प्यार करूँगा और उस पर अपने को प्रकट करूँगा।

22) यूदस ने, (इसकारयोती ने नहीं), उन से कहा, “प्रभु! आप हम पर अपने को प्रकट करेगें, संसार पर नहीं- इसका कारण क्या है?

23) ईसा ने उसे उत्तर दिया यदि कोई मुझे प्यार करेगा तो वह मेरी शिक्षा पर चलेगा। मेरा पिता उसे प्यार करेगा और हम उसके पास आकर उस में निवास करेंगे।

24) जो मुझे प्यार नहीं करता, वह मेरी शिक्षा पर नहीं चलता। जो शिक्षा तुम सुनते हो, वह मेरी नहीं बल्कि उस पिता की है, जिसने मुझे भेजा।

25) तुम्हारे साथ रहते समय मैंने तुम लोगों को इतना ही बताया है।

26) परन्तु वह सहायक, वह पवित्र आत्मा, जिसे पिता मेरे नाम पर भेजेगा तुम्हें सब कुछ समझा देगा। मैंने तुम्हें जो कुछ बताया, वह उसका स्मरण दिलायेगा।

27) मैं तुम्हारे लिये शांति छोड जाता हूँ। अपनी शांति तुम्हें प्रदान करता हूँ। वह संसार की शांति-जैसी नहीं है। तुम्हारा जी घबराये नहीं। भीरु मत बनो।

28) तुमने मुझ को यह कहते सुना- मैं जा रहा हूँ और फिर तुम्हारे पास आऊँगा। यदि तुम मुझे प्यार करते, तो आनन्दित होते कि मैं पिता के पास जा रहा हूँ, क्योंकि पिता मुझ से महान है।

29) मैंने पहले ही तुम लोगों को यह बताया, जिससे ऐसा हो जाने पर तुम विश्वास करो।

30) अब मैं तुम लोगों से अधिक बातें नहीं करूँगा क्योंकि इस संसार का नायक आ रहा है। वह मेरा कुछ नहीं बिगाड सकता,

31) किन्तु यह आवश्यक है कि संसार जान जाये कि मैं पिता को प्यार करता हूँ और पिता ने मुझे जैसा आदेश दिया है मैं वैसा ही करता हूँ। उठो! हम यहाँ से चलें।”

The Content is used with permission from www.jayesu.com

संत योहन रचित सुसमाचार को अच्छे से समझने इसके परचिय पर बनाये गए वीडियो को देखिये।