Greater Glory Of God

बाइबिल में पवित्र त्रित्व

holy-trinity

The Most Holy Trinity in the Bible

पवित्र त्रित्व हीख्रिस्तीय विश्वास का केंद्रीय रहस्य है | अन्य सभी ख्रीस्तीय रहस्यों का स्रोत (मूल) और शिखर (अंत) है। ईश्वर शाश्वत, अनंत, अपरिवर्तनीय, समझ से बाहर, सर्वशक्तिमान और अनिर्वचनीय है । हालांकि, सबसे पवित्र त्रित्व के तीन दिव्य व्यक्ति, विशिष्ट रूप से भिन्न हैं, अविभाज्य रूप से एकजुट हैं। अति पवित्र त्रित्व इतनी अविभाज्य रूप से एकजुट हैं कि उनकी पहचान एक ईश्वर के रूप में प्रकट होती है | पवित्र त्रित्व के तीनों व्यक्तियों के एकता, अनेकता, मिशन, और मानव मुक्ति के बारे में गहराई से जानने वीडियो को देखिये |

इस महान रहस्य को निम्न पांच बिंदुओं पर बाँट कर मनन किया गया है :-

  1. ख्रीस्तीय विश्वास का सबसे महत्त्वपूर्ण रहस्य
  2. परम पवित्र त्रित्व की एकता
  3. तीनों व्यक्तियों की विविधता – पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा
  4. पवित्र त्रित्व का मिशन – ईश्वर जैसे वास्तव में हैं वैसे ही उनकी प्रकटीकरण
  5. मानव मुक्ति – पवित्र त्रित्व के जीवन में भागीदारी

The Most Holy Trinity is the central Mystery of the Church; all the other Mysteries have this for their source (origin) and summit (end). God is eternal, infinite, unchangeable, incomprehensible, almighty, and ineffable. The Three Divine Persons of the Most Holy Trinity, are, though, distinctively different, are inseparably united. The Most Holy Trinity is so inseparably united that the identity of the Most Holy Trinity is ONE.

The Most Holy Trinity is reflected under five points:

  1. Central Mystery
  2. Unity of the Most Holy Trinity
  3. Diversity of the Persons – Father, Son, and Holy Spirit
  4. The mission of the Holy Trinity – Expression of God as He IS
  5. Human Salvation – Participation in the life of the Holy Trinity.