Greater Glory Of God

प्यार की भूख और प्यास

Human Hunger for Love

Listen to the Podcast

प्यार की भूख और प्यास हर मनुष्य में रहती है | कौन नहीं चाहता कि हर कोई उनसे प्यार करें? हर व्यक्ति में प्यार की चाहत रहती है |

कोई भूखा कैसे दूसरे की भूख मिटा सकता है ? यह तो सच है कि थोड़ा बहुत अपने भोजन से दूसरे को दे भी सकता है, लेकिन भूख तो पूरा मिटा नहीं सकता |

हम भी मनुष्यों से चाहते हैं कि लोग हमारी प्यार की भूख मिटायें जो कि असंभव है | तो क्या करें?

केवल प्यार ही प्यार दे सकता है और प्यार कर सकता है | हम जानते हैं “ईश्वर प्रेम है” (योहन का पहला पत्र 4 :8) |

भले समारी का दृष्टान्त
30) ईसा ने उसे उत्तर दिया, "एक मनुष्य येरूसालेम से येरीख़ो जा रहा था और वह डाकुओं के हाथों पड़ गया। उन्होंने उसे लूट लिया, घायल किया और अधमरा छोड़ कर चले गये। 
31) संयोग से एक याजक उसी राह से जा रहा था और उसे देख कर कतरा कर चला गया। 
32) इसी प्रकार वहाँ एक लेवी आया और उसे देख कर वह भी कतरा कर चला गया।
33) इसके बाद वहाँ एक समारी यात्री आया और उसे देख कर उस को तरस हो आया। 
34) वह उसके पास गया और उसने उसके घावों पर तेल और अंगूरी डाल कर पट्टी बाँधी। तब वह उसे अपनी ही सवारी पर बैठा कर एक सराय ले गया और उसने उसकी सेवा शुश्रूषा की।
35) दूसरे दिन उसने दो दीनार निकाल कर मालिक को दिये और उस से कहा, ’आप इसकी सेवा-शुश्रूषा करें। यदि कुछ और ख़र्च हो जाये, तो मैं लौटते समय आप को चुका दूँगा।’

(सन्त लूकस 10:29-37)

“तुम मेरी दृष्टि में मूल्यवान् हो और महत्व रखते हो। मैं तुम्हें प्यार करता हूँ।”

— इसायाह का ग्रन्थ 43:4

“आपका अपने पर अधिकार नहीं है; क्योंकि आप लोग कीमत पर खरीदे गये हैं। इसलिए आप लोग अपने शरीर में ईश्वर की महिमा प्रकट करें।”

— कुरिन्थियों के नाम सन्त पौलुस का पहला पत्र 6:19-20


“आपका उद्धार सोने-चांदी जैसी नश्वर चीजों की कीमत पर नहीं हुआ है, बल्कि एक निर्दोष तथा निष्कलंक मेमने अर्थात् मसीह के मूल्यवान् रक्त की कीमत पर।”

— पेत्रुस का पहला पत्र 1:18-19


“क्या आप लोग यह नहीं जानते कि आपका शरीर पवित्र आत्मा का मन्दिर है? वह आप में निवास करता है और आप को ईश्वर से प्राप्त हुआ है। आपका अपने पर अधिकार नहीं है; 20) क्योंकि आप लोग कीमत पर खरीदे गये हैं। इसलिए आप लोग अपने शरीर में ईश्वर की महिमा प्रकट करें।”

— कुरिन्थियों के नाम सन्त पौलुस का पहला पत्र 6:19-20


प्रेम रुपी ईश्वर के असीम प्रेम को अनुभव करने का तरीका जानने पूरे वीडियो को देखिये |